Saturday, 30 November 2019

Human blood (रक्त परिसंचरण तंत्र) | function of blood | RBC, WBC, Plasma


रक्त परिसंचरण तंत्र ( Blood Circulatory System ) खून क्या होता है RBC, WBC, Plasma


Human-blood-function-of-blood-RBc-WBC-Plasma
रक्त(Blood) या खून एक शारीरिक Liquid है जो Blood vessels के अन्दर विभिन्न अंगों(Oragan) में लगातार flow करता रहता है। Blood vessels में flow करने वाला यह गाढ़ा, चिपचिपा, Red colour का यह पदार्थ, एक जीवित tissue है। यह Plasma और Blood cells  से मिल कर बनता है।

इसका काम, पोषक तत्वों और ऑक्सीजन जैसे आवश्यक पदार्थों को Cell तक  Transports करना है। Blood, शरीर की प्रत्येक cell तक पहुंचने के लिए heart का सहारा लेता है

Plasma वह निर्जीव तरल माध्यम है जिसमें blood cells तैरते रहते हैं।Plasma के Help से ही ये कण सारे शरीर में पहुंच पाते हैं और वो Plasma ही है जो Intestines से observe nutrients को शरीर के विभिन्न भागों तक पहुंचाता है और digestion के बाद बने हानिकारक पदार्थों को उत्सर्जी अंगो तक ले जा कर उन्हें फिर साफ़ होने का मौका देता है

Join Here – नई PDF व अन्य Study Material पाने के लिये अब आप हमारे Telegram Channel को Join कर सकते हैं !

Fact about Blood :-


  1. रक्त(Blood) एक Connective Tissue होता है 
  2. किसी healthy मनुष्य में 5 से 6 लीटर तक रक्त(Blood) होता है 
  3. Blood की मात्रा शरीर के भार का लगभग 7% होती है
  4. इसका PH मान 7.4 है 
  5. महिलाओं में पुरुषों की तुलना में हाफ लीटर Blood कम  होता है। 

Structure of Blood in Hindi :- 

SSCCAMPUS
    रक्त(Blood) में प्लाज्मा तथा Red Blood Cell (RBC), White Blood Cell (WBC) और Blood Platelets (Composition blood in Hindi) होते हैं। Blood का लगभग 55% भाग plasma होता है और साथ ही Blood का शेष 45% भाग RBC, WBC तथा Platelets होता है

Plasma :-

  • Blood का लगभग 55% भाग Plasma होता है|
  • 90% भाग जल
  • 7% प्रोटीन
  • 0.9 % Salt
  • 0.1 % Glucose 

Function of Plasma :- पचे हुए भोजन एवं  हार्मोन का शरीर में संवहन प्लाज्मा के द्वारा ही होता है | Body temp. को नियंत्रित रखता है तथा घाव भरने का काम करता है |


Serum :- जब प्लाज्मा में से फाइब्रिनोजेन नामक प्रोटीन निकाल लिया जाता है तो शेष प्लाज्मा को Serum कहते हैं |


फाइब्रिनोजेन प्रोटीन :- Blood का थक्का जमने में मदद करता है
    Blood के शेष 45 प्रतिशत में मुख्य रूप से Red Blood Cell    (RBC), White Blood Cell (WBC) और Blood Platelets होते हैं। इनमें से प्रत्येक की Blood क्रिया को प्रभावी ढंग से बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

Red Blood Cell (RBC or Erythrocytes) :-

  • निर्माण - Bone Marrow
  • मृत्यु - Liver और Spleen (RBCs का कब्रिस्तान)
  • निर्माण में सहायक - Protein, Vitamin, B12 and Folic acid .
  • इसमें केन्द्रक नहीं होता है | except camel and lama .
  • Life - 20 to 120

 नोट :- 

  1. भ्रूण अवस्था में इसका निर्माण Liver तथा Spleen में होता है
  2. इसमें हिमोग्लोबिन नामक प्रोटीन होता है, जिसके के कारण 
  3. Blood का रंग लाल होता है |
  4. ग्लोबिन लौह युक्त प्रोटीन है, जो ऑक्सीजन एवं  कार्बन डाइऑक्साइड से संयोग करने की क्षमता रखता है |
  5. हिमोग्लोबिन में पाया जाने वाला Iron Compound हिमैटिन है | 

Function of RBCs :-

  1. शरीर की हर Cell में ऑक्सीजन पहुंचाने का तथा  कार्बन डाइऑक्साइड को वापस लाने का काम RBCs का ही  है |
  2. सोते वक्त RBCs 5% कम हो जाता है एवं जो लोग 4200m की ऊंचाई पर होते हैं उनके RBCs में 30% की वृद्धि हो जाती है |
  3. RBCs की संख्या हिमोसाइटोमीटर से ज्ञात की जाती है |

RBCs की कमी से होने वाले रोग :-

  1. Anaemia
  2. Jaundice

White Blood Cell (WBC or Leucocytes) :-

  1. Blood में इसकी संख्या सबसे कम होता है आकर में सबसे बड़ी  होती है |
  2. निर्माण -  Bone Marrrow, Lymph node और कभी-कभी  liver और spleen में भी |
  3. मृत्यु - Blood में ही |
  4. Life - 2 से 4 दिन
  5. RBC तथा WBC का अनुपात –  600 : 1



WBC का मुख्य कार्य :-

  1. इसका मुख्य कार्य शरीर को रोगों के संक्रमण से बचाना तथा Immune system को बढाना  है |
  2. इनको ‘शरीर रक्षक’ ‘बॉडीगार्ड’ कहा जाता है |
  3. WBC की सहायता से घाव जल्दी भर जाते है |
  4. WBC का सबसे अधिक भाग 60 से 70% न्युट्रोफिल्स कणकाओ का बना होता है न्युट्रोफिल्स कणकाऐ रोगाणुओ तथा जीवाणुओं का भक्षण करती है |
  • Cancer cell को remove करता है |
  • HIV के Attacked से भी बचाता है |
  • HIV के Attacked से भी बचाता है |
  • HIV के Attacked से भी बचाता है

WBC  की कमी से होने वाले रोग :-

  1. Cancer
  2. HIV
  • ल्युकोपीनिया - WBC की कमी से होता है 
  • ल्यूकेमिया   –  WBC की अधिकता से होता है 

Blood Platelets :-

  • Blood में Platelets की संख्या 4 से 5 लाख होती है।
  • Platelets केवल मनुष्य एवं अन्य स्तनधारियो Mammal के Blood में पाया
  • इसके Cell में  केन्द्रक नहीं होता है केवल DNA ही होता है।•इसका निर्माण Bone Barrow में होता है।•इसका जीवनकाल 3 से 5 दिन का होता है उसके बाद यह स्वत: नष्ट हो जाते हैं। 
  • इसकी मृत्यु Spleen में होती है।

मुख्य कार्य :-

  1. Blood में उपस्थित Platelets का मुख्य कार्य, शरीर में उपस्थित हार्मोन और प्रोटीन उपलब्ध कराना होता है। Blood के थक्का बनाने में मदद करना  है।
  2. Blood vessels को नुकसान होने की स्थिति में कोलाजन नामक द्रव निकलता है जिससे मिलकर Platelets एक Permanent wall का निर्माण करते हैं और Blood vessels को और अधिक क्षति होने से रोकते हैं।
  3. Platelets की संख्या, सामान्य से नीचे आ जाती है , Bleeding, चिकनगुनिया, डेंगू ज्वर, थ्रोम्बोसाइटोपेनिया की आशंका बढ़ती है।

Platelets की कमी से होने वाले रोग :-

  • Bleeding
  • चिकनगुनिया
  • डेंगू ज्वर
  • थ्रोम्बोसाइटोपेनिया
Notes :- शरीर में Platelets , आवश्यकता से अधिक  होने पर  खून का थक्का जमना शुरू हो जाता है जिससे दिल के दौरे (heart attack) की आशंका बढ़ जाती है।


Blood के कार्य (function of blood) :-

  1.  रक्त के ताप का नियंत्रण तथा शरीर को रोगों से रक्षा करना
  2. शरीर के वातावरण को स्थाई बनाए रखना तथा घाव को भरना 
  3. Blood का थक्का (Clotting) बनाना 
  4. O2, CO2  पचा हुआ भोजन एवं हार्मोन का संवहन करना
  5. विभिन्न अंगों में सहयोग स्थापित करना
  6. मानव शरीर में blood हेपेरिन की उपस्थिति के कारण नही जमता 





1 comment: